Omus’s Weblog

Politics, Trekking, Environment & Personal

Recession reloaded November 27, 2010

Filed under: Personal — omus @ 11:14 pm
Tags: ,
Recession ने लगाई है पूरी WATT|
उस पर Inflation का भारी शाक ||
दोनों ने मिलकर, है मचाया ऐसा कहर |
अब महँगा हुआ, खाना भी जहर ||
पेट भरता है, खाके Maggi |
और कपडे पहने, जैसे कोई भंगी ||
एक तरफ है, सुन्य काम धाम |
ऊपर से मैनेजर की, ताम झाम ||
GF बोलती, चलो डेट |
रूठ जाती, न दूँ कोई भेंट ||
पापा कहते, खरीदो FLAT |
सोचते नहीं , भरेगा कैसे INTEREST ||
खतरे मैं है, अब कमाई |
अब भरूँगा, कैसे कार लोन की EMI ||
खाली हो जाता, पहली तारीख  को पर्स |
बाकी तीस दिन, दर्दे – सर ||
चीलर मैं है, SALARY ACCOUNT |
बढ़ता जा रहा है, CREDIT CARD AMOUNT ||
STOCK मार्केट, हुए सभी फेल |
लगी है, कंपनियों की सेल ||
 मच गयी है, ऐसी तंगी |
भूल गए हैं, साथी संगी || 
ऐसी पड़ी है, RECESSION की काली छाया |
अब रहा न दुनिया से, कोई मोह माया ||
-END-
विशेष धन्यवाद महोदय संतोष ध्यानी जी का
Advertisements
 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s